25 Oct 2011

भाग लछमी

एक गांव म धनीराम नाम के एक झन मुरहा पोट्रटा मनखे रिहीस। वोकर कर गावं म घर न खार म खेत, जिंहे मिलय दाना पानी तिंहे करे बसेरा। धनीराम के गरीबी ह अतेक दुबर होगे रिहीस कि वोहा भिख मांगे के सुरु कर दिस। कोनो दिन मिल जए त खा लय नइ मिले त लांघन रइ जए। कोनो कोनो दिन जादा मिल जए त चार झन बाट के खाय। झुठ लबारी अउ चोरी चमारी ले धनीराम दस हांथ दुरिहा राहय।

एक दिन भगवान बिसनू अउ लछमी दार्इ ह धरती तनि किंजरे बर आय रिहीस। धरती के नजारा देखत देखत लछमी दार्इ ह बिखमंगा धनीराम ल देख डरिस। भगवान बिसनू ल पुछथे ये कोने स्वामी। भगवान किथे ये धनीराम आय। तव माता किथे धनीराम के अइसन गत काबर कर देहव भगवान, बिचारा गरीब पेट भरे बर गली गली किंजरथे।

भगवान बिसनु किथे देवी वो बिचारा नोहय वो तो पुराना पापी ये। धनीराम ह अपन पाछु जनम म जइसन करम करे रिहीस तइसन फल पावथे।

किथे न '' करम प्रधान विश्व कही राखा अउ जो जस करम करही जस फल चाखा ''।

जतके कन येकर पुन रिहीस ततके कन येला सुख मिलीस अब आगु ये अपन भाग के ल खाही।

धनीराम के हालत देखके लछमी दार्इ ह करलइ मरथे। वोहा भगवान ल किथे स्वामी चलव न येकर मदद करथन। तब भगवान ह लछमी दाइ ल समझावत किथे तै ओकर उपर दया झन लछमी, तकदीर ले जादा अउ मेहनत ले कम कोनो ल नइ मिले।

ये दुनिया ह जब ले बने हे तब ले अंजोरी अंधियारी ह बरोबर चलत आवथे। धरम अउ आस्था के ये धरती म करम के बड़ महत्ता हे। भाग्य ल मानुस अपन पुर्व जनम ले लिखा के आय रिथे। अमीर गरीब, सुखी दुखी, जोगी भोगी सबो रकम के मनखे होथे।

लछमी दार्इ किथे पुर्व जनम ल छोड़ भगवान ए जनम के येकर दुख ल टार दे। ये का दुनिया ये स्वामी एकझन हर छकत ले खावथे, छलकत ले लुटावथे अउ दूसर ह पसिया पेज बर लुलवाथे। सबला बरोबर देतेव भगवान। तब भगवान बिसनू किथे मै तो सबला बरोबर दे रेहेव कोन ह कातका का पइस ये ओकर मेहनत अउ करम के बात हे येमा मे का कर सकथवं।

     भगवान बिसनू कतको समझा डरिस फेर माता ह मानबे नइ करिस। आखिर म भगवान ह धनीराम के मदद करे बर राजी होके धरती म आइस। धनीराम ल धनवान बनाय बर माता ह अपन गहना गुठा ल हेर के एक ठन मोटरी म बांधिस।

     सोना चांदि हिरा मोती ले भरे मोटरी ल धनीराम आवत रिहीस तिही रददा म मड़ा दिस। येती बर धनीराम ह भिख मांगे के नवा नवा उपाय सोचत रिहीस।

     वो सोचथे हाथ गोड़ वाला साबुत आदमी ल आज काल कम भिख देथे अउ खोरवा लुलवा मन ल जादा देथे। मोला भगवान खोरवा काबर नइ बनइस। भिख मांगे बर खोरवा के नाटक तो नइ करे ल परतीस। फेर सोचथे रोजे रोज खोरवा बनना ठीक नइहे एका दिन अंधवा कनवा घलो बनना चही। भगवान बिसनू अउ लछमी दाइ ह सबला लूका के देखत रिहीस। थोरकेच म धनीराम ह आखरी मुंद के अंधवा बनगे। अब लउठी के सहारा म टेकत टेकत रद्दा म रेंगथे।

     रेंगत रेंगत वो ह रद्दा परे गठरी म हपट के गिरगे। धनीराम खिसीया के उठीस अउ आखी मुंदेच मुंदे गहना के गठरी ल कोन आगु आगु म पथरा ढेला बांध के मड़ा देहे किके कस के एक लात मार देथे।

     गहना के गठरी ह डुलत डुलत भगवान मन करा जा के रुकथे। येला देख के भगवान बिसनू ह लछमी दाइ डइर ल देखके किथे देखे देवी वोकर भाग ल तोर गहना ल लात मार के तोरे करा फेक दिस।

     लछमी दार्इ भगवान ले किथे एक मउका अउ देबो स्वामी अब वोकर आगु म जाके ओकर मदद करबो। भगवान किथे ठीक हे चलव भेस बदल के ओकर आगु म।

     येती बर धनीराम घला भेस बदल डरे रिहीस। बइहा पगला ल जेने मेर पाथे तेने मेर सुते बइठे के जगा मिलथे। इही पाय के धनीराम ह बइहा पगला के भेस धरे रिहीस। पगला मन बरोबर रुख राइ झाड़ झरोखा जिही ल पावे तिही त लउठी म मारत पिटत रांय रांय रेगत राहय।

     वोतके बेरा भगवान बिसनु लछमी दाइ धनीराम के आगु म आके किथे धनीराम हमन तोर सहायता करे बर आय हन बेटा। धनीराम सोचिस फेर कोनो वोकर काम बाधा बिघन करे बर आय हे। मेहा भिख मांगे के जिही तरीका अपनाथवं तिही म कोनो ना कोना बाधा परिच जथे।

     वोतका बेरा पथरा म अरहज के गिरेवं अब तूमन आगेव बेटा। राहले तुहर मंजा बतावथवं। धनीराम के एड़ी के रिस तरवा म चड़गे। धर तो एमन ल रे किके लउठी ल उबाके किटकिट किटकिट दड़थे। वो का जाने एमन सउहत भगवान बिसनू अउ माता लछमी हरे किके। बिसनू भगवान ह धरा पछरा भाग के किथे ये भाग्य लछमी तहू भाग नही ते धनीराम ह लउठी म बजेड़ डरही।

     धनीराम घला पाछू पाछू दउड़त किथे भाग लछमी ... भाग लछमी ..... भाग लछमी...।

     अब तक तो लछमी दार्इ ल समझ म आगे रिहीस भाग के खेल ह। धनीराम ल अपन हाल म छोड़ के भगवान बिसनू अउ माता लछमी दूनो झन चल दिस अपन लोक म।