26 Nov 2014

छत्तीसगढ़ी दिवस मनई कब फत परही?

छत्तीसगढ़ राज के सपना ल साकार करे म लोक कलाकार अउ साहित्यकार मनके गजब योगदान हाबे। सिरतोन बात किबे तव छत्तीसगढ़ ह साहित्यिक आंदोलन के सिरजन आए। भासा के लड़ई ले अलग राज के सपना जोंगईस। इहां के जुन्नटहा कलमकार मन तइहा समे ले अलग अपन चिनहारी खातिर लड़ई लड़त रिहिस हाबे, धीरे-धीरे चारो मुड़ा के कलमकार मन सुनता-सुलाह होके दिल्ली तक पहुंचिस। उकर संग म लोक कलाकार मन तको अपन अलग चिनहारी पाये खातिर साहमत दिस, ओ बखत कोनो राजनेता बने ह ढंग के लड़ई म नइ कुदत रिहिसे। नेता मनला तो अजम तको नइ रिहिस के साहित्यकार अउ कलाकार मनके लड़ई फत परही। कलमकार मनके हौसला ल देखके नेता मन तको धीरे-धीरे लोरघत गीस अउ हम 1 नवंबर 2000 के अलग चिनहारी पागेन। अलग राज बने के बाद राजनेता मन गद्दी पागे उही मन वाहवाही तको बटोरिस। फेर छत्तीसगढ़िया मन ठगागे। भाखा के लड़ई ले राज बनिस, अब नेता मूल बात ल बिसार के छत्तीसगढ़ी संग दगाबाजी कर दीस। 

अलग छत्तीसगढ़ राज पाये के बाद कलमकार मन ये सोचत रिहिन के ओमन के लड़ई पुरा होगे, फेर सिधवा मन नेता मनके चाल नइ जान पाइस। सत्ता पाते साठ जेकर बल म छत्तीसगढ़ अलग राज पाइस ओही ल भुलागे। जेन कारन बर अलग राज मिलिस ओकर चेत नइ करिस। हद तो तब होगे जब छत्तीसगढ़ म छत्तीसगढ़ी ल राजभाखा बनाये बर छै बछर के बखत लागिस। छत्तीसगढ़िया कलमकार ल छत्तीसगढ़ी ल राजभाखा बनाये खातिर गेलौली करे बर परिस, आंदोलन करे बर परिस तब छत्तीसगढ़ के विधानसभा म 28 नवंबर 2007 के छत्तीसगढ़ी ह राजभाखा बनिस। सरकार ह छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के गठन करिस। आयोग के काम काज तो आज तक काखरो समझ म नइ आइस। दू कार्यकाल होगे फेर आयोग के काम काज ले कोनो साहित्यकार खुस नइये। आयोग के बारे म ये केहे जावत हे के छत्तीसगढ़िया मनके मुंह तोपे बर आयोग बनाये गे हाबे। सात साल होगे छत्तीसगढ़ी ल राजभासा बने फेर सरकार ल सुरता नइये के छत्तीसगढ़ी दिवस मनाये जाना हाबे। छत्तीसगढ़ी दिवस मनाये के जिम्मा राजभासा आयोग अउ संसकिरति विभाग उपर छोड़ के सरकार ह कान मुंदे बइठे हाबे। का राज भासा के सम्मान करना सबो के जिम्मेदारी नइ बने। रास्ट भाखा दिवस ल कइसे सबो सरकारी अउ गैर सरकारी विभाग मन मनाथे। 


छत्तीसगढ़ी दिवस मनाये बर का राजभासा आयोग बनाये गे हावय? का छत्तीसगढ़ी के सबो सरकारी विभाग के जिम्मेदारी नइ बने के ओमन छत्तीसगढ़ के राजभाखा छत्तीसगढ़ी के सम्मान करय। सरकार ह 28 नवंबर ल छत्तीसगढ़ी दिवस के रूप म मनाये के घोसना करे हाबे। यहू घोसना पउर साल ले होय हाबे। माने सरकार ल छत्तीसगढ़ी दिवस मनावत दूये साल होवथे। अउ राजभाखा बने सात साल होवथे। अब इही मेर आयोग अउ सरकार के मंसा के फरीफरकत होगे के ओमन छत्तीसगढ़ी ल राजभासा अउ छत्तीसगढ़ राजभासा आयोग का खातिर बनाइस हाबे। खैर छत्तीसगढ़ी दिवस के ओढ़र म कखरो पै ल का खोधियाबे। जेकर सो जइसे बनथे छत्तीसगढ़ी के उरऊती बर बुता करन। जइसे हिन्दी दिवस ल सबो सरकारी विभाग मन मनाथे ओइसने छत्तीसगढ़ी दिवस के दिन तको सबो छत्तीसगढ़ी म गोठियान। स्कूल-कॉलेज म तको एक दिन छत्तीसगढ़ी वाचन होवय। छत्तीसगढ़ी म पढ़ाय-लिखाय जावे। कम से कम एक दिन तो अइसन करके देखन। तभे छत्तीसगढ़ी दिवस मनई फत परही।

4 Nov 2014

साफ-सफाई के संखनांद म फुटहा नंगाड़ा तको ठिनठिनावथाबे


                          सिरी नरेंद्र मोदी जी के प्रधानमंत्री बनते साठ देस म एक नवापन दिखत हाबे। अइसे लागत हे जानो-मानो ढुड़गा म फेर पीका फूटत हाबे, थकहा जांगर फेर भाड़ी फोरत हाबे। कतको लोगन के नारी ल टमड़ के देखेवं, सबोच हर नवा जोस अउ जुनून म दिखत हाबे। मोदी जी के आजादी परब के भासन जेमा ओमन केहे रिहिन के तुमन 12 घंटा काम करहू त मैं 13 घंटा काम करहूं। लागथे इही बात अब जवान मनके मन म समागे, चारो मुड़ा नमो-नमो के गुन-गान होवथाबे। मोदी जी ह राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जयंती के दिन ले सरी देस ल स्वच्छता महाअभियान के संकलप दिस। परन करे ल किहिन के अवइया दिन माने 2019 म जब हमन गांधी जी के 150 वां जयंती मनाबो तब हमर भारत म गंदगी के नामो निसान नइ रिही। संकलप के असर तो सरी देस म दिखिस जिहा-जिहा भाजपा के सासन हाबे उहा छोटे-बड़े सबो कार्यकर्ता ले लेके राज के मुखिया तको ह बाहरी धर के सड़क बाहरे बर निकलगे। ओकर संगे-संग सबो सरकारी विभाग ल तको निर्देस जारी होगे के सबो ल स्वच्छता अभियान म जुरना हे अउ अपन-अपन कार्यालय के साफ-सफाई करना हाबे। जनप्रतिनिधी, अफसर, करमचारी, मास्टर सबो झिन मन जुर मिलके बाहरी धरे-धरे फोटो खिचाइस। फोटो खिचाइस ये पाके केहे बर परत हे के जिहा ओमन सफई अभियान चलईस ओ करा अभी तको कचरा बगरे हाबे। 
                      कतको अफसर मन सान से सेखियावत फोटो ल अखबार म छपाये तको रिहिसे के हमन अपन कार्यालय म स्वच्छता अभियान चलाके साफ-सफाई के संकलप ले हाबन। सरकारी विभाग म तो साफ-सफाई बर बकायदा आदेस जारी होय रिहिसे। अभियान तो अइसे होगे के चलो कोनो बोलत हे तव आदेस कर दव, फोटो खिचालव, खेल खतम, एक दिन म थोरहे कचरा साफ होही। ये एक दिन वाले मनतो अभियान के कबाड़ा करत हाबे। कुछू करथे तेकर ले जादा तो जनवाथे। मोदी जी के मंसा म कोनो संका नइये उकर अभियान एक दिन जरूर सफल होही। फेर फोटो छपास नेता अफसर के हिरदे म ये बात ल जाना चाही के जेन जगा म हम सफाई के संकलप लेवन ओ जगह हमेसा साफ होना चाही। दूसर के मन मढ़ाये वाला बुता नइ होना चाही। अपन हिरदे ले लोगन ह ये महाअभियान ले जुरे तब काम बनही। 
                अभियान के संख तो बाजगे फेर सुरू होय हाबे तेन दिन ले जिहा-जिहा के खबर सुने रेहेव के फलाना जगा स्वच्छता अभियान के आयोजन फलाना नेता डहर ले करे गे रिहिस हाबे, उहीच ठउर म गंदगी पसरे दिखत हाबे। अपन-अपन गली-मोहल्ला अउ घर ल देखन तव अपन घरेच भर साफ दिखथे उहू ह पर भरोसा। झाड़ू-फोछा के बुता करे बर बनिहार लगाये रिथन उही ल चिचिया-चिचिया के, गारी गल्ला देके अपन घर ल साफ करवाथन। घर के कचरा ल बाहिर फेकवाथन। मोटर गाड़ी म चघे-चघे खई-खजेनी अउ आने समान के कचरा ल बाहिर सड़क म फेक देथन। हमरे घर ले निकले कचरा ल गली म देख के सफाई वाला बर ताव म आ जथन। पद अउ पावर के सेती तुरते साफ करा लेथन। हांसी-ठठ्ठा तब लागथे जब सौ-सौ झिन जेकर घर साफ-सफई करे बर बनिहार हाबे ओही मन देखनी करे बर बाहरी धर के सड़क ल बहार के फोटो खिचाथे। ओकर बाद ओ जगह म नास्ता के कागत, झिल्ली, फूलमाला, दुच्छा परे पानी के बोतल। अभियान वाले मन जतका के सफई नइ करे तेकर ले जादा तो अऊ कचरा बगरा के रेंग देथे। माननीय मादी जी के सियानी सोच ले भारत एक दिन सिरतोन म स्वच्छ भारत बनही। काबर के जेकर विचार नेक रिथे अउ निसुवारथ काम करे के जेकर म जुनून रिथे ओकर संग भगवान तको देथे। भगवान अइसन मनखे के संग नइ देवे जेन मन साफ-सफई के फूटहा नंगाड़ा बजाके वाहवाही बटोरथे।