20 Feb 2015

इमानदार भ्रस्टाचारी, नानि म गजब भाईचारा

* शिवशंकर भट्ट (पी.डी.एस.प्रभारी), संदीप अग्रवाल कम्पनी सचिव, गिरीश शर्मा उप प्रबंधक, जी.के. देवांगन  लेखाधिकारी, सुधीर कुमार भोले सहायक लेखाधिकारी, एस.के. चंद्राकर वरिष्ठ सहायक, जीतराम यादव वरिष्ठ सहायक, स्टेनोटायपिस्ट अरविंद ध्रुव निलंबित होगे।
*  तकनीकी सहायक प्रबंधक आर.पी. पाठक अउ देवेन्द्र सिंह कुशवाहा बर्खास्त।

घटिया चाऊर, घटिया बारदाना, सरी नागरिक आपूर्ति निगम कमिशनखोरी म बुढ़े

नागरिक आपूर्ति निगम म राज के सबले बड़का खोटालाबाज मनके भंडा फूटगे हावय। कोनो ल गम नइ रिहिसे के ओ विभाग म अतेक अकन रूपिया के लेन-देन होवत रिहिस होही। आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो के जांच म विभाग के बड़का अफसर ल लेके छोटे करमचारी मन तको मिल बाट के कमीशन खावत राहय। जब पुलिस के टीम जांच करे खातिर विभाग गिस तव गजब अकन नगदी रूपिया देख के ओहू मन अकचकागे काबर के नागरिक आपूर्ति विभाग म नगद रूपिया के कोनो कामे नइ रिहिसे। जाचं परताल म ये बात के फरीफरकत होगे के उहां के अफसर मन बारदाना अउ तालपतरी खरीदी म कमीशन लेके कइसनो भी, खराब मान के तको खरीदी करा देवत रिहिन हाबे। ओकर ये पै ह ये पाके नइ उभरत रिहिसे के सबो कोनो के ओमा हिस्सा राहय। ओमन ह गरीब के राशन म तको कड़हा-घुनहा ल बने सुघ्घर बताके पठो देवय।
राज म अइसन पहिली पइत होइसे जेमा ये बात के जानबा होय हाबे के विभाग के खपला या फेर ेकमीशन म सबो के हिस्सा रिथे।
भंडाफोड़ होय के बाद सबो कोति थू-थू होय ले उहा के बड़का अफसर माने एमडी अउ प्रमुख सचिव तक ल तुरते हाट के नवा अफसर ल जिम्मा दे गे हावय। नवा अफसर बृजेशचंद मिश्रा ह अपन पद म आते ही उहां के 17 करमचारी अउ अफसर मन ला निलंबित कर दे हावय। जेमा रायपुर मुख्यालय के प्रबंधक शिवशंकर भट्ट, कम्पनी सचिव संदीप अग्रवाल, उप प्रबंधक गिरीश शर्मा, लेखाधिकारी जी.के. देवांगन, सहायक लेखाधिकारी सुधीर कुमार भोले, वरिष्ठ सहायक एस.के. चंद्राकर, वरिष्ठ सहायक जीतराम यादव, स्टेनोटायपिस्ट अरविंद ध्रुव साामिल हावे। येकर अलावा निगम मुख्यालय म संविदा म काम करत तकनीकी सहायक प्रबंधक  आर.पी. पाठक अउ देवेन्द्र सिंह कुशवाहा ल बर्खास्त कर दे हावय।
आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो के जांच म निगम के रायपुर मुख्यालय के प्रबंधक (पी.डी.एस. प्रभारी) शिवशंकर भट्ट के कार्यालय के कमरा म एक करोड़ 62 लाख 97 हजार 500 रूपिया नगद पाये रिहिन हाबे। शिवशंकर भट्ट, कम्पनी सचिव संदीप अग्रवाल ह निलंबित होके दुर्ग कार्यालय म काम करही। निगम के उप प्रबंधक गिरीश शर्मा के कार्यालय के कमरा ले बीस लाख रूपिया नगद पाये रिहिन हाबे। निगम के बालोद के सहायक प्रबंधक डी.पी. तिवारी, धमतरी स्थित उप प्रबंधक टी.डी. हरचंदानी, बिलासपुर स्थित उप प्रबंधक के.के. यदु, निगम मुख्यालय रायपुर के लेखा अधिकारी जी.के. देवांगन, सूरजपुर के सहायक प्रबंधक आर.एन. सिंह, निगम मुख्यालय रायपुर के सहायक लेखाधिकारी  सुधीर कुमार भोले, वरिष्ठ सहायक एस.के. चंद्राकर, वरिष्ठ सहायक जीतराम यादव, स्टेनो टायपिस्ट अरविंद धु्रव, निगम के सूरजपुर कार्यालय के कनिष्ठ तकनीकी सहायक विशाल सिन्हा, दुर्ग के कनिष्ठ तकनीकी सहायक आलोक चंद्रवंशी, जगदलपुर के कनिष्ठ तकनीकी सहायक  सतीश कुमार कैवर्त्य, रायगढ़ के कनिष्ठ तकनीकी सहायक क्षीरसागर पटेल, धमतरी के कनिष्ठ तकनीकी सहायक हरदीप सिंह भाटिया, कांकेर के कनिष्ठ तकनीकी सहायक हरीश सोनी ह घलोक निलंबित होगे हाबे।

11 Feb 2015

सोज म काम नइ बनय तव टेढ़गा अंगरी ले निकालव लेवना

चारो मुड़ा ले चुनई-चुनई आरो मिलत रिहिसे। छोटे-बड़े सबो नेता अपन-अपन पारटी के बड़का-बड़का चुनई घोसना पाती धरे लोगन ल मोहाये के उदीम म रमे रिहिस हाबे। चुनई ह घर-घर के चुल्हा अलगाये के ओखी तको होइसे। काबर के सबो के विचार एके नइ हो सकय। कोनो ल राम के काम बने भाथे तव कोनो ल लखन के बेवहार बने लागथे। कोनो ल सुकालू के सियानी मति बने जचथे। अब चुनई तको उरकगे हवय, जीते हाबे तेन मन अपन पद म बइठगे। अउ हारे प्रत्यासी मन कलेचुप झिन बइठो। कलेचुप बइठे ले लोकतंत्र ह तीन बेंदरा बरन हो जही। झन देखव, झन सुनव अउ झन बोलव के रद्दा म रेंगे ले आम आदमी के दिन दूबर हो जही काबर के बपरा ह तो कुछू तीन पांच जाने नहीं कम से कम जानकार मनतो चेत करव। जनता ह हिने कोनो ल नही, हा जेन ला जादा आदमी मन करिस उही ह जीत के माला पहिरिस। हारे मन जनता ले बदला के भावना ल छोड़ ऊंकर हितवा बनही तभे लोकतंत्र के सांस चलही।
अब हमला उकर घोसना पाती के किताब ल हमेसा उघरा रखना हाबे। भुलाय म उनला सुरता कराना हाबे के ओ का का करे के वादा करे रिहिन हाबे। कहू नेता मन चुनई म हार के कारण आम आदमी(मतदाता)के उपर सबो रिस उतारही तव तो मरे बिहान हो जही। लोकसभा, विधानसभा अउ निगम असन गांव-गांव म तको अब विपक्ष के आदमी ल अपन-अपन भूमिका निभाना हाबे। पद वाले के नाक के खाल्हे म बइठे काम ल फत पारे के जुमेदारी विपक्ष ल निभाना हाबे। लोकतंत्र म अपन-अपन नेता चुने के अधिकार सबो ल हाबे। तभे तो एक्कइस म एक झिन जितके आथे। तव बाकी बांचे बीस प्रत्यासी जोन मन हारे हाबे ओहू मन तो काकरो अगवा होही। केहे के मतलब आधा जनता तो उहू मनला अपन नेता के रूप म देखना चाहे रिहिन हाबे, ये बात अलग हाबे के कुछ मत के अंतर के सेती कुर्सी नइ पाइस, माने कुरसी म बइठइया नेता ल ओकर काम के सुरता कराये के जुमेदारी दमदार विपक्ष के होनेच चाही। विपक्ष ह कहू कमजोर परही तव जीतइया ह घलोक अपन मनमानी करही। जनता ले कहे अपन वादा म मुकरे लागही। पद म बइठे नेता ह कहू अपन बात ले मुकरही तव ओहू ल ये बात के डर होना चाही के जनता ओकर का हाल करही। जनता के आवाज बनके आन प्रत्यासी के डटे रेहे ले ही काम ह सपूरन होही। गांव म तक अइसन किस्सा देखे बर मिलथे जिहा आन पारा के नेता आन पारा म काम ल बने रकम ले नइ करावे। जीते नेता ह मनखे चिन-चिन के काम कराथे के कोन वोला वोट दे हावय अउ कोन ह नइ दे हावय। अइसन दू भेदवा नेता मनके चेत चघाये बर पांच साल अगोरा करे बर परही। फेर हमन ला तो अबही काम हाबे, तव का करे जाय कइसे करे जाय ये गुनान करे ला छोड़ जेन पद म हाबे ओकरे सो बरजोरी कर काम ल सिद्ध परवाये बर परही। जब सोज अंगरी ले लेवना नइ निकले त अंगरी ल थोकन टेड़गाये बर परथे। बस उही बरन हमु मन ला अंगरी टेड़गा के तको अपन बुता ल सिद्ध पराये बर कहे ल परही। काबर के जोन नेता चुन के आए हाबे ओहा अपने बेड़ा भर के नेता नोहे, सबो पारा-मुड़ा के जुमेदारी ओकरे उपर हाबे तव चार समाज के चरयारी बुता बर तो जिकर करेच बर परही।