28 Mar 2017

जांच के डर ले छोटे डॉक्टर लुकागे अउ बड़का मनके भाव बाड़गे [NURSING HOME ACT/RULES-2013]

NURSING HOME ACT/RULES-2013


छत्तीसगढ़ राज म झोलाझाप डॉक्टर मनके उपर कार्रवाई करे खातिर टीम बनाके छापामारी चलत हावय। प्रशासन के ये जांच टीम ह छत्तीसगढ़ नर्सिंग होम एक्ट ल जोर देवत ये कार्रवाई के बात करत हावव। जेमा अब तब सौकड़ों नवसिखीया डॉक्टर के दवाखानाल सील करे गे हावय। जांच दल मनके सबले ज्यादा शिकार गली-गोन्टा के छोटे-छोटे डिग्रीधारी मन होवत हाबे। तीन-चार साल कोर्स करे के बाद प्रेक्टीस म लगे डॉक्टर बाबू मन छत्तीसगढ़ नर्सिंग होम एक्ट के पालन नइ करत हावय। कायदे से देखे जाये तव ये तो सरासर गलत हावय के सरकार के नियम कानून के विरूद्ध क्लिनिक नइ चलाना चाही। जांच म तो कतकोन अइसनों डाक्टर पकड़ म आवत हाबे जेन मन के पूरा के पूरा डिग्री ही फर्जी हावय। कतकोन मन तो अजरा गोली दवई देवत-देवत बड़का क्लिनिक बना डरथे।  ये उही डॉक्टर मन पकड़ म आवत हावय जेन मन 10-20 रूपिया म लोगन के सर्दी-बुखार के इलाज करथे। गाव-गली के गरीब आदमी छोटे-मोटे बीमारी म इंकरे मन कना जाके बने होथे।
जेन ल सरकार ह आज झोलाछाप डॉक्टर काहत हावय इहिच मनतो आधा आबादी के तानहार हवय। इहां स्वास्थ्य विभाग के अतका खस्ता हाल हवय के लोगन मन मजबूरी म इही डाक्टर सो इलाज करना ज्यादा बेहतर समझथे। एक कोती शहर के बड़का डॉक्टर मन 400 रूपिया सोज्झे देखेच के फीस लेथे उंहचे गांव के डॉक्टर ह 30-40 के दवई म बने कर देथे। अब सरकार के मुताबिक कोन डिग्री बने अउ कोन खइता के हावय येला आम जनता का जानही। हमर बर तो जेने रोई-राई टारिस तेने बने बइद। बपरा मन 10 रूपिया के फीस लेथे तेनो म घर म चउदा परत देखे बर आथे। नानमनू जर-बूखार बर शहर के बड़का डॉक्टर मनके रद्दा जोहत-जोहत जोनन पर जथे, सरकारी होय चाहे परावेट। बेरा कुबेरा जा नइ सकस बिना अपाइंटमेंट के। जब सरकार ह छत्तीसगढ़ नर्सिंग होम एक्ट ल लेके अभियान चलाते हावय तव येमा अऊ ज्यादा बड़े रूप म जांच होना चाही। जेन नर्सिंग होम के व्यापार करत हावय तिकरों जांच होनो चाही। स्वास्थ्य के नाम म लोगन के जान संग खिलवाड़ तो झोलाछाप डॉक्टर ले ज्यादा बड़का परावेट नर्सिंग होम वाले मन करथे। ये बात तको काकरो ले छिपे नइये के कोन लोगन मन सरकारी म इलाज कराथे कोन पराबेट म, सब पइसा के खेल हावय।  बड़े मनके जांच करे म सांस फूल जथे अउ छोटे मनके टेटवा ल मसके परत हावय।
  • एक नजर राज्य सरकार के राजपत्र के अनुसार नियम ल देखन अऊ अपन तिरके अस्पताल देखन तव हमला जनबा हो जही के कोन-कोन छत्तीसगढ़ नर्सिंग होम एक्ट के अवमानना करत हावय-
  • क्‍लीनिक बनाये खातिर मानक  
  1.  क्‍लीनिक खातिर मानक-




  1.  मेडिकल लैब खातिर मानक-





  1.  प्रसुति अस्‍पताल खातिर मानक-





  1.  फिजियोथेरेपी इकाई खातिर मानक-

  1.  अस्‍पताल अउ नर्सिंग हाेम-









  1.  पंजीयन / लाइसेंस जारी / नवीनीकरण-


  1.  घोसना पत्र-

  1.  आवेदन पत्र-

No comments:

Post a Comment