30 Apr 2014

अक्ति

छत्तीसगढ़ ह कृषि प्रधान अंचल आए। इही पाय के इहां के सबो परब-तिहार ह कोनो न कोनो रूप ले खेति-किसानी ले जूरे रिथे। बइसाख के अंजोरी के तिज म परब मनाथन अक्ति। अक्ति ह गांव के सियान बर जतके महत्ता के हाबे ओतकेच नान्हे लइका मन बर तको हाबे। बिजहा म फोकियावत जरई, प्रकृति के सेवा अउ बिहाव संस्कार के सरेखा। घर के डोकरी-डोकरा के सियानी पागा ल बांधे नान्हे लइका ह अपन संस्कृति ल कइसे सिखथे अक्ति के दिन परगट देखे बर मिलथे।


पुतरी-पुतरा के टिकावन परत हाबे
चुलमाटी,दतेला, बरात। नान्हे बाजा पालटी



















सुवासिन

 ग्राम देव के पूजा
ठाकुरदेव ह गांव के सबले बड़का देव आए। तेकरे सेती तो कोनो भी कारज होए सबले पहिली ठाकुरदेव के नाव सुमरथन। अक्ति के दिन ठाकुरदेव के मंदिर म गांव के लइका सियान जुरियाके पूजा-पाठ करथे अउ गांव खुसियाली के कामना करथे। संगे-संग गांव के अऊ आन देवधामी म तको किसान मन धान के दोना  चखाथे।
धान चघथे ठाकुरदेव म
गांव के किसान म ये दिन अपन-अपन घर ले डूमर पाना के दोना बनाके ओमा एक दोना धान भर के ठाकुरदेव म चघाथे। सबो किसान के घर ले धान के दोना आए के पाछू गांव के सियान अउ बइगा मन मिलके सबो के धान ल मिंझारथे। पैरा ल बेठ अइसन लपेट के काठा बनाथे। उही काठा म धान ल नापथे। नपाय धान ल फेर दोना-दोना भर के गांव किसान म अपन-अपन घर लेगत जाथे। मंगल कारज म डूमर के तको गजब महत्ता हाबे। बिहाव म मंगरोहन डूमर डारा के ही बनाये जाथे। जइसे कि धान ह किसान मन के बिजहा के काम आही तव काम ल सिद्ध पारे खातिर डूमर के पाना ले दोना बनाथे।
किसानी के बोहनी
बइगा हा काठा के धान ल उही मेर नेंगहा छित के नांगर तको चलाथे। गांव के सियान मन के चलाए परंपरा हा आजो चले आवत हाबे। किसान मन हर पूजा-पाठ होय के बाद ठाकुरदेव म चघे धान ल दोना म अपन घर लेगथे। उही धान ल किसान मन अपन बिजहा म मिंझारथे। उही धान ल जमो के तको देखथे। अइसे मानता हाबे के अइसन करे ले किसान के एको बीजा धान ह खइत नइ होवे। सबो बीजा म जरई आथे।
नवा करसा के पानी
अक्ति के दिन ले ही गांव के माईलोगन मन नवा करसा म पानी भरथे। किथे घलोक नारी-परानी मन हा कि करसा के पानी ह अक्ति के माने के बादे मिठाथे। इही पाय के नवा करसा म अक्ति के दिन ले ही पानी पिये के सुरू करथे।
मंदिर देवाला अउ पेड़-पौधा म पानी रूकोना
अक्ति के दिन गांव के लइका सियान मन करसा धर-धर के निकलथे अउ ओरी-ओरी गांव के सबो देव-धामी म पानी रूकोथे। गांव म जतेक भी पेड़-पौधा हे तेनो म पानी रूकोथे। छत्तीसगढ़ के संस्कृति म इही ह तो हमला सबले आन चिनहारी देवाथे। बइसाख के लाहकत घाम म रूख-राई म पानी रूकोना, कोना ल जीवन देके समान पुन आए। अक्ति ले सुरू ये परंपरा हा चलते रिथे, रूख-राई हरियाते रिथे। ये परंपरा ह एक डहर तो हमर देव-धामी के प्रति आस्था ल देखाथे ऊहें दूसर कोति हमर प्रकृति के खातिर परेम ल तको देखाथे। देव-धामी के आसिस के संगे-संग रूख-राई तको पावन पुरवाही संग अपन आसिस बगराथे।
पुतरी-पुतरा के बिहाव
अक्ति के दिन गांव के नाननान नोनी मन पुतरी-पुतरा के बिहाव रचाथे। नान्हे लइका मन माटी के पुतरी-पुतरा के बिहाव के सरी नेंग-जोंग ल करथे। मड़वा गड़ियाथे, मड़वा छाथे, तेल हरदी चुपरथे। सिरतोन के बिहाव बरोबर मंगल-उच्छाह ले लइका मन गीद तको गाथे। बरात निकालथे, टिकावन बइठारथे। सियान ल बिहाव म करत नेंग-जोंग ल लइका मन देखे रिथे वहू मन ओइसनेच करथे अपन पुतरी-पुतरा के बिहाव म। अक्ति के पुतरी-पुतरा के बिहाव ह ये सेती बड़ महत्ता के हाबे कि बिहाव के संस्कार ल लइका मन देख-देख के सिखथे। बिहाव के सबो नेंग-जोंग ल सीख के अपन पुतरी-पुतरा के बिहाव करत बखत ओला सुरता कर करके बिहाव संस्कार के सरेखा करथे। नोनी पिला मन तो पुतरी-पुतरा के बिहाव करथे फेर बाबू पिला मन तको ये खेल म पाछू नइ राहय। नेवता-हिकारी, गवइ-बजई अउ समान के जोखा करे के काम ल बाबू पिला मन करथे। इही पाय के अक्ति के पुतरी-पुतरा के बिहाव ह खेल नहीं बल्कि सिरतोन के बिहाव लागथे।
अक्ति के बिहाव लगिन 
अक्ति के दिन बिहाव के लगिन तको विशेष रिथे। कतको दाई-ददा मन अपन लोग-लइका के बिहाव बर इही लगिन के अगोरा करथे। दिन बादर ल बने जोंग के अक्ति भावंर ल बने मानथे। छत्तीसगढ़ म अक्ति के दिन गजब बिहाव होथे।

16 Apr 2014

नेता मन के टोटका अउ ठोटका

चारो मुड़ा चुनई परब के बरोड़ा चलत हाबे। का गांव, का साहर ल किबे गली-गली म तको नेता मन के रेंगई ले फुतकी उड़त हाबे। जेन ल कभू चार आना दान-धरम म देवत नी देखे रेहेन तेने मन अब जनता ऊपर अपन कोठी उरकावत हाबे। जनता ल मोहय के नाना उदीम करत हाबे। रूपिया-पइसा, दारू, बोकरा, ओनहा-कपड़ा, घर बऊरे के समान के संगे-संग, जंतर-मंतर अउ पूजा-पाठ तको होवत हाबे। ये दरी आन बच्छर ले जादा चुनई के गदर माते हाबे। काबर कि हमर छत्तीसगढ़ म अभिच्चे विधान सभा के चुनई निपटे हे अऊ ये दे फेर लोकसभा होगे। सबोच ल अपन-अपन जीत के भरोसा होवथाबे। काबर कि सबो कोनो ह अपन-अपन सलाहकार के बात मान के ओकरे विधी-विधान ले फारम ल भरे हाबे। 
फारमे भरेच भर ले जीते के उम्मीद ये पाय के तको जादा हे काबर कि ये पइत बड़े-बड़े ज्योतिष के बात मान के ओकर केहे मुताबिक दिन-बादर ल देख के सही बेरा म फारम भरे हाबे। येहा सोचे के बात आए कि जेन नेता मन ल देश अउ समाज ल चलाना हे, जनता के दुख-सुख के संगवारी बनना हे वो मन हा मुहरत देख के नामांकन भरही तब जीते के बाद ओकर दिन-बादर कइसे रइही। मुहरत के फेर म छोटे बड़े सबो नेता मन फसे हाबे। उत्तर ले दक्षिण, पूरब ले पश्चिम सबो डहर एकेच बात सुने बर मिलिस के फलाना नेता ह अपन नामांकन ल अपन ज्योतिष के बताए मुताबिक भरिस हाबे। नामांकन भरे ल जाए के आगू घर म पूजा-पाठ अउ हुमन-धूपन के कार्यक्रम होना भले ही धरम अउ आस्था ल उजगार करथे फेर इहीच दिन अइसना करना यहु तो बतावत हाबे कि का सोच के नामांकन भरे बर जावत हस। जेन मन पहिली पइत चुनई परब म उतरे ते मन ह कहू पूजा-पाठ करत हाबे, हुमन-धूपन करत हे तिकर म जादा अलकरहा नइ लागे फेर जेन मन बीस-बीस साल ले कुर्सी म पलथियाए हे तेन मन कहू अइसन करथे तव मन म कुछू अऊ सोच विचार उमड़थे। कहू ये नेता मन पूजा-पाठ, हुमन-धूपन अउ तंजर-मंतर ले तो नइ जीतत होही? का ज्योतिष के बताए बेराच म नामांकन भरे ले चुनई जीताथे। कतको मन तो ज्योतिष ले पुछ के उकरे मुताबिक ओनहा-कपड़ा तको पहिरथे। अइसन सब आस्था अउ भक्ति ह चुनईच के बेरा म जादा देखे बर मिलथे। चुनई लड़त बखत जेन-जेन मंदिर म मुड़ी नावए रिथे तिहा जीते के बाद हिरक के नइ देखे, ओकर बाद तो घर के जोगी जोगड़ा अउ आन गांव के सिद्ध हो जथे कहे के मतलब नेताजी ल चुनई जीते के बाद दूरिहा-दूरिहा के देव-धामी दरस करे के साध लाग जथे। बेरा के फेर ह ओमन ल चुनई जीताए म कतका साहमत करथे उही मन जाने।
बड़का नेता मन करत हाबे तव काकरो आंखी म नइ गड़त हाबे। कहू इही ल छोटे मनखे मन करे तव अंधविश्वासी कहाही, इहीच मन केहे बर धर लिही के ये नाननान नेता मन तंत्र-मंत्र करके समाज म अंधविश्वास बगरावथे। आयोग तको तुरते उमिया जही कार्यवाही करे बर। चुनई ल छोड़ के आन दिगर सिजन म कुछ कार्यकरम ल देखन तव इकर मन के करई ह विधी-विधान हो जथे अउ छोटे आदमी मन के ह अंधविश्वास अऊ आडंबर होथे। येमन के करत किरिया करम ल जनता म टीवी, रेडियो अउ पेपर म परगट देखत हाबे। ये नेता मन जतके चुनई जीते म टोटका करथे ततका तो आम आदमी मन तको नी करत होही। इकर मन के आगू पाछू चार आंखी लगे रिथे तेन पाय के इमन दूसर के मार्फत काम ल सिद्ध पारथे। एकक झिन नेता के नाम बकरना बने नोहे काबर के सबोच के इही हाल हे, सबो पंचन, सबोच दल के नेता मन टोटका अजमावत रिथे।
टोटका अजमाए के बाद अब इहू बात ह झूट होवथे के बड़े आदमी के बड़े ठोटका। चुनई के होवत ले छोटे-बड़े, उच-नीच के खचका डबरा सबो बरोबर होगे हाबे। अउ चुनई आयोग के सेती सबो नेता मन देख ताक के परचार करथे। चुनई म कतका रूपिया बरोना हे तेहू ल आयोग ह बताए हे तेन पाय के अब ये बड़का नेता मन के ठोटका ह तको सटगे हाबे। का मजदूर का बनिहार सबो के घर जाके पेज-पसिया पियत हाबे। काकरो घर जाए के आगू नेता मन थोरको नइ बिचार करत हे कि कोन जात-धरम के मनखे के घर जावत हाबन, ओकर घर के चऊर-दार कइसन चूरे-पके होही। नेता मन जावत हे अउ मांग के चार कांवरा खावत हे। चांदी के थारी के म सोन के सीथा खवइया मन अब गरीब के पसिया पीके का बताना चाहत हे तेन तो अब सबो कोनो जान डरे हाबे। गरीब बर मया-पीरा होतिस अउ सिरतोन म गरीबहा समाज के बड़वार बर बुता करे के मंसा होतिस तब आज अतेक बच्छर बाद तको हमर देश के दशा अउ दिशा आज जस के तस नइ रितिस। चुनई परब म जतका रूपिया उरकाथे, ए रूपिया काहां ले आथे येला सबोच ह जान डरे हाबे।
अब रूपिया के बात अइगे हाबे त इहू बात कोति बिचार करे बर परही कि आज देश के जेन-जेन बड़का राजनीतिक दल हे ओही मन सबले जादा रूपिया सिरवाथे। ओकर पार्टी म करोड़ों का अरबों रूपिया जमा होही। आखिर ये रूपिया ल पार्टी वाला मन कहा ले बटोरथे। पार्टी म अतेक कोस के काबर जरवत परथे। अऊ सबले बड़े दुर्भाग के बात ये आए कि दल वाले मन के बटोरे रूपिया ल कोनो जनहित म नइ लगाए जाए। नेता मन अपन पार्टी के निज काम अउ चुनई लड़े बर सकेले रिथे। कुल मिलाके केहे जाए तव राजनीति घलोक अब व्यवसाय होगे हाबे। अउ बैयपारी मन पइसा ले पइसा बनाना जानथे। आज चुनई म पांच लाख गवावथे तव चुनई जीते के बाद पांच के पचास होके रिही। सब पइसा अउ सत्ता के खेल हे तबे तो सरी करम करे जावत हाबे। बड़े नेता मन के सिखान ल अब छोटे मन सिखत हाबे। काबर की इहां तो राजनीति म तको एक परिवारवाद अउ विचाराधारा ह पार्टी म मिंझरे हाबे। एकर ले कोनो अलग होय के कोसिस नी करे अउ न कबू अलग होय। सबो बड़का नेता चाहथे कि ओकर बनाए राजसत्ता के सुख ओकरे कुल-कुटुम भोगते राहे। आधा तो इही परिवारवाद वाला मन के सेती पार्टी के परमुख बुता माने जनसेवा ह कुलुप हो जथे अउ पार्टी सेवा के भावना जादा उमियाए रिथे। काबर कि आगू चलके सबे ल चुनई म टिकट चाही। जेन नेता मन आज पार्टी के टिकिट पाके चुनई म अपन भाग अजमावत हे वोमन पार्टी के बड़ लगन ले सेवा करे हे तेकरे फल आए। लेदे टिकट पाथे नाम पाथे तव सत्ता पाए बर जोर अजमाइस होनेच हे। ये सब तो अब राजनीति के अमेट लेख होगे हाबे। इही पाए के जगा-जगा के मंदिर देवाला म पूजा-पाठ, हुमन-धूपन, मांदी-मेला सब चलत हाबे, अउ सनातन चलते रइही तइसे लागथे।